NITI Aayog Complaints, Helpline Number, Toll-free no. , Customer Care

Have any problem finding customer care or complaint forum about it? Please comment below to tell us about your problems and we will try to help you as soon as possible.

More customer care and complaints

2 Replies to “NITI Aayog Complaints, Helpline Number, Toll-free no. , Customer Care”

  1. braham singh rajput

    aapne 29/5/17 ko news m diya ki industries m ek employe ka kaam h or 2 employes kr rahe h us kaam ko isliye saleryes nhi badegi, aap logo ne kabhi industries m ja k dekha h 5000/month m 12 hrs logo se kaam kraya ja raha h, aap ministers ko risvat mil gai industries walo se to aap emploes k sath kiyu doge, modi ne bhi sab chor bitha rakhe h, desh ne ye samjh k BJP ko laya ki kuch accha hoga, bt garib ki do waqt ki roti bhi chin li tum choro ne, or kitna khokhla kroge desh ko, baaten krte ho japan banane ki, jab tak garib ka bhala nhi hoga, tab tak tum log bhi be moot maroge, kuch to dekho kya ho raha h garib k ghar m, shram kro tumse acche to britesh the, paraye ho k bhi kuch accha kr gaye,

  2. Devendra kaithwas

    माननीय नरेंद्र मोदी जी
    प्रधानमंत्री भारत सरकार
    नईदिल्ली
    विषय – आप कुछ कर सकते है हम सात हजार नौकरी होते हुए भी बेरोजगार हो गए है आप हर व्यक्ति को नौकरी की बात करते है यहाँ तो हम बेरोजर हो हो गए है
    एक सर्वेक्षण सहायको की दुःख भरी कहानी
    ( घर में बी बी बच्चे है बच्चो को पढ़ाने के लिए किसी प्रकार की कोई आये नहीं नहीं है किसी के माता पिता बीमार रहते है किसी के माता पिता ने यह कहकर अपने बच्चे की शादी कर दी की लड़का सरकारी नौकरी करता है उसकी पत्नी घर छोड़कर चली गई है सायद हमारे देश के नेताओ को भी हमारे जैसा काम दिया होता तो आज हम भी बहुत खुश रहते लेकिन आज हम लोग गलत कदम नहीं उठाते लेकिन आज हमें मजबूरी नक्सल बाद अच्छा लगने लगता है इससे अच्छा हमें मरना पसद है हम पड़े लिखे डिप्लोमाधारी है जय हिन्द
    आर्थिक एव् सांख्यिकी संचालनालय मध्यप्रदेश भोपाल ने प्रगणक एवं सर्वेक्षण सहायकों की भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया। लाखों युवाओं ने अप्लाई किया। उनसे परीक्षा फीस वसूली गई। परीक्षा कराई। 7817 युवाओं को ज्वाइनिंग भी दी, लेकिन फिर नौकरी से निकाल दिया। अब वापस बेरोजगार हो गए युवा यहां वहां आवेदन लिए भटक रहे हैं। आर्थिक एवं सांखियकी संचालनालय मध्यप्रदेश भोपाल (योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग) 13वें वित्त आयोग के द्धारा अनुशंसित कार्यों के हेतु दिसम्बर 2014 में MP Onlline से लिखित/ऑनलाइन परीक्षा के माध्यम से 1214 प्रगणक एवं 6603 सर्वेक्षण सहायक भर्ती हेतु विज्ञापन प्रकाशित किया गया था। जिसमे कोई रोस्टर नियम का पालन नहीं किया है जबकि गाइडलाइंस अनुसार बिना रोस्टर लागू किये राज्य/केंद्र सरकार के विभागों में भर्ती नहीं की जा सकती और ना ही शासन द्धारा उक्त पदो को आस्थाई/स्थाई स्वीकृत किया गया था। नियम विरुद्ध भर्ती विज्ञापन प्रकाशित कर अभ्यर्थी से 600/- रु प्रति आवेदक शुल्क सहित MP Onlline के माध्यम ऑनलाइन आवेदन प्राप्त किये गए थे। जिसमे लाखो अभ्यर्थियों द्धारा आवेदन किया गया था। उक्त अभ्यार्थ्यो का चयन लिखित/ऑनलाइन परीक्षा द्वारा जनवरी 2015 में 1214 प्रगणक अभ्यर्थीयो को मध्यप्रदेश के प्रत्येक जिले में प्रगणक पद पर पदस्थ किया गया था और जनवरी 2015 से मार्च 2015 तक कार्य करा गया और दिनाक 31/03/2015 जिला कार्यालयो द्धारा हमें मौखिक सूचित किया गया की आपकी सेवाऐ आर्थिक एवं सांख्यिकी संचालनालय मध्यप्रदेश भोपाल (योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग) द्वारा समाप्त कर दी गई है और 6603 चयनित सर्वेक्षण सहायक की ज्वाइनिंग कर ली गई परन्तु ज्वाइनिंग दस्तावेज नहीं सौपे गए है और आज दिनाक तक ग्राम/ग्रामपंचायत स्तर पर पदस्थ 6603 सर्वेक्षण सहायक को किसी प्रकार के कार्य नहीं सौपे गए है और ना ही किसी प्रकार का कोई भत्ता/मानदेय दिया गया है। मंत्रालय के आधिकरीयो का कहना है की और कोई दूसरी नौकरीयों की तैयारी करो इस नौकरी का कोई भविष्य नहीं था। श्रीमान जी जब इसका कोई भविष्य नहीं था तों प्रदेश की एक विस्वश्नीय संस्था MP Online से लिखित/ऑनलाइन भर्ती परीक्षा क्यों ली गई थी। उक्त भर्ती परीक्षा मे आस्थाई/स्थाई भर्ती नियमों का पालन क्यों नहीं किया गया। दोषपूर्ण तरीके से भर्ती कर हम बेरोजगारों के कानूनी अधिकारों का हनन किया गया है। जबकि केंद्र/राज्य सरकार अपने नागरिको के कानूनी अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध होती है। जिसका खामिजा हम प्रदेश के बेरोजगार नागरिक भुगत रहे है क्या यह भर्ती परीक्षा हम बेरोजगारों के भविष्य के साथ खिलवाडा करने या किसी घोटाले की मंशा से उक्त भर्ती परीक्षा आयोजित की गई थी क्योकि उक्त भर्ती तों बर्ष 2012 में ही हो जाना चाहिए था। अतः उक्त भर्ती परीक्षाऐ 13वे वित्त आयोग द्धारा आर्थिक एव् सांखियकी संचालनालय मध्यप्रदेश भोपाल (योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग) को दिए गए फंड (राशि) में किसी बड़े आर्थिक घोटाले के लिए प्रदेश की एक विस्वश्नीय संस्था MP Online की लिखित/ऑनलाइन भर्ती परीक्षा का सहारा लिया गया है। क्या श्रीमान जी उक्त घोटाले की जाँच कराई जाये और दोषीयो के विरुद्ध कठोर कार्यवाही कराने और हम पीड़ित 1214 प्रगणक एव् 6603 सर्वेक्षण सहायक को न्याय दिलाने की कृपा करे। नोट – आर्थिक एव् सांखियकी संचालनालय मध्यप्रदेश भोपाल (योजना एव् सांखियकी विभाग) की वेबसाइट http://www.des.mp.gov.in पर 1214 प्रगणक एव् 6603 सर्वेक्षण सहायक की भर्ती परीक्षा/नियमों का अवलोकन किया जा सकता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *